इतिहास

बदायूँ सूफ़ी संतो औलियाओ, वलियों व पीरों की भूमि और ज्यारतों का स्थान भी है| यह हिंदुस्तान की बहुत ही पवित्र भूमि है| प्रो० गोटी जॉन के अनुसार प्राचीन शिलालेखों में इसका नाम “वेदामूथ” था जो शिलालेख लखनऊ म्यूजियम में संरक्षित है| अधिक जानकारी के लिए नीचे दी गयी पीडीएफ फाइल देखे |